Followers

Sunday, February 18, 2018

पिंजरा

एक पिंजरे से निकाल
कर दुसरे पिंजरे में
कैद करने के लिए
आज़ाद किया जाता है
पंछियों को,
उन्हें गर खुला छोड़
दिया तो डर है कहीं
आज़ाद हो वो
अपनी मनमानी न
करने लग जायें ,
अपने मन से उड़ान
न भरने लग जायें ....
अरे पिंजरे में रहेंगे
तभी तो वो अपने
स्वामी के भरोसे
जीयेंगे
वो देंगे तो खायेंगे
उनका जब मन किया
उसे पिंजरे से निकाल
खेलेंगे
फिर पिंजरे में कैद कर देंगे
लेकिन सालों ऐसे
रहते रहते
वो अपनी उड़ान ही
भूल जातीं हैं
और यही तो सारा खेल है .....

रेवा








Monday, February 12, 2018

औरत

क्या औरत
मर्द का तराशा हुआ
बुत है ?
जिसे वो तराशता है
चमकाता है
अपनी मर्ज़ी से
नुमाइश करता है
और फिर जब
मन भर जाये तो तोड़
देता है .......
न बिलकुल नहीं
न हम बुत हैं न मूरत
न बलिदान की देवी
न ही हम
सुपर वुमन बन ने की
रेस में शामिल हैं ,
हम सोचने, समझने
हँसने और बोलने वाली
बेबाक औरतें हैं ....

रेवा

Wednesday, February 7, 2018

कुरुक्षेत्र

हर कोई
सुकून की तलाश में
भटक रहा है
कोई घर में तो कोई
बाहर सुकून तलाशता है
किसी का अपने से युद्ध है
तो किसी का अपनों से ,
कोई नाम के पीछे पागल है
कोई पैसों के पीछे
कोई अहम में रहता है
तो कोई वहम में
कोई गैरों में अपनों को
ढूंढ लेता है
तो कोई अपनों को
गैर बना देता है
कोई सिर्फ दिखावे से प्यार करता है
और कोई अपने ज़मीर से
पर ये तो सच है
हर एक इंसान
इस जीवन के कुरुक्षेत्र में
युद्धरत है !!


रेवा

Saturday, February 3, 2018

डर




मन में एक अजीब सी 
हलचल 
रस्सा कसी मची हुई है
कभी अजीब सा
अनदेखा अनजाना डर
कभी बेहिसाब प्यार
इतना की तुम्हें
आंखों से ओझल ही
न होने दूं
जानती नहीं ऐसा क्यों है ??
पर लगता है
तुमसे दूर जाने का डर
तुम्हें खोने का डर हावी
हो रहा है
हर जीवन साथी की तरह
हमने भी साथ लम्बा
सफ़र तय करने की
कसम खायी है
पर अगर बीच रास्ते
किसी ने धोखा दे दिया तो
या अपना रास्ता बदल
लिया तो क्या ??
जवाब तो नहीं किसी
के पास भी इन सवालों का
बस एक विश्वाश की डोर
जरूर है
जो होती तो मज़बूत है
पर कभी कभी
कुछ हादसे कमज़ोर
बना देते हैं !!

रेवा


Wednesday, January 31, 2018

चिड़ियाँ

मेरे आंगन के कोने में
एक बहुत प्यारी छोटी
कोमल सी चिड़ियाँ ने
घोंसला बनाया था
मैं जब भी आंगन में बैठती
वो फ़ुर्र उड़ कर आ जाती
फुदकती रहती और
अपनी ची ची
से मन मोह लेती
पूरा घर उसकी
हरकतों से ज़िन्दगी
से भर जाता 

पर ये पता न था की
कोई और भी नज़र
रखे हुए है इन सब पर
एक दिन मेरी बैठे बैठे
आँख लग गयी
तभी एक कौवा आया
चिड़ियाँ को मुंह में दबाने की
कोशिश करने लगा
उसकी दर्द भरी आवाज़ से
मेरी तंद्रा भंग हुई
किसी तरह चिड़ियाँ को बचाया
उसके घाव पर मरहम लगाया
पर वो डरी सहमी उड़ना कम
कर दिया
मेरे आस पास ही फुदकती थी
लगा उसे उठा कर पिंजरे में
डाल दूं, ताकि वो सुरक्षित रहे
पर ऐसा नही किया
उसके पंख, पंजो
और चोंच को फिर से
मजबूत करना शुरू किया
उसे हाथ में उठा उड़ा देती
धीरे धीरे उसने
डरना छोड़ दिया
अब वो उन्मुक्त हो
उड़ती है आकाश में
बिना रुके बिना थके
बिना डरे ....

रेवा

Sunday, January 28, 2018

नक़ाब




कितने मसरूफ़ रहते हैं न
लोग आजकल
इतने नक़ाब जो
बदलने पड़ते हैं उन्हें

कभी प्यार का ऐसा नक़ाब
चढ़ा लेते हैं कि लगता है
उनसे ज्यादा हमसे प्यार
कोई कर ही नहीं सकता

पर जब उन्हें लगता है हमें
उनकी आदत हो गयी है
वो बदल का खामोशी का
नक़ाब पहन लेते हैं

हज़ार मिन्नतें और
लाख मनुहार के बाद भी
उनकी खामोशी नही टूटती
बल्कि और मजबूत हो जाती है

लेकिन जब उन्हें लगता है
हम टूट रहे हैं तो
वो एक और नक़ाब लगाते हैं
दया का

उन्हें इस बात का ज़रा भी
इल्म नहीं की उनके इन हरकतों से
हम उनसे बहुत दूर चले जाते हैं
सदा सदा के लिए
और वो रह जातें हैं अकेले अपने
हज़ार नकाबों के साथ !!

रेवा

Monday, January 22, 2018

हॉस्पिटल

ये शब्द सुनते ही
ज़हन में एक डर
पैदा होता है,
लगता है भगवान न करे
वहां कभी जाना पड़े
पर जब कलपुरजों  में
तकलीफ़ होती है तो
पैर खुद ब खुद वहां
पहुंच जाते हैं
राहत देने के लिए
इस संस्था का निर्माण हुआ था
पर व्यवस्था को इतना
जटिल बना देते हैं कि
आम आदमी उलझ कर
रह जाता है
यहां पर भी जान पहचान की
महिमा का गुण गान होता है
आपकी पहचान जरूर
होनी चाहिए नहीं तो
ऊंचे पद पर तो हों ही आप
अगर ये सब है तो
आपकी बल्ले बल्ले
अगर नही तो जनाब
हस्पताल में भर्ती
करने और इलाज़ से लेकर
वहां से मुक्त होने में
आपके पसीने छूट जाएंगे
कुल मिला कर जोड़ घटा कर
ये हिसाब बना की
राहत देने से
लेकर परेशान करने तक और
आपके पॉकेट में बड़ा सा
छेद करने तक का सारा काम
ये पूरा करते हैं !!

रेवा